क्रिकेट पर शुद्ध हिंदी में निबंध | Cricket Par Hindi Mein Essay

1
59

क्रिकेट दुनिया में सबसे लोकप्रिय खेलों में से एक है। इसकी शुरुआत दक्षिण इंग्लैंड से हुई और अब ये 200 से अधिक देशों में खेला जाता है। क्रिकेट का खेल बहुत ही रोमांचक होता है। क्रिकेट भारत, पाकिस्तान, इंग्लैंड, न्यूजीलैंड, वेस्टइंडीज, श्रीलंका और अफ्रीका में ज्यादा विख्यात है। यह खेल 18 वीं शताब्दी से ही प्रसिद्धि में है। इस खेल को हमेशा से ही शाही खेल माना गया है।

क्रिकेट दो टीम के मुकाबले का खेल है, और दोनों ही टीम में ग्यारह-ग्यारह खिलाड़ी मौजूद होते हैं। जिनमें गेंदबाज टीम से 11 खिलाड़ी और बल्लेबाज टीम से दो खिलाड़ी मैदान पर उतरते हैं इनके अतिरिक्त दो अंपायर भी मैदान में निर्णायक के तौर पर मौजूद रहते हैं। क्रिकेट कई प्रारूपों के तहत खेला जाते हैं जिनमें प्रमुख टेस्ट मैच और 20-20 मैच है। इस खेल को खेलने के लिए बल्ला गेंद विकेट का इस्तेमाल होता है। आज के दौर में महिलाएं भी पिछले दसकों से राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेल रही हैं।

भारत में भी क्रिकेट कई वर्षों से खेला जा रहा है। जो खेल बच्चे बुड्ढे सब में लोकप्रिय है। यह खेल राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय दोनों ही रूप में खेलते हैं। यह खेल बाकी खेलों से कहीं अधिक पसंद किया जाता है जब भी यह राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय तौर पर खेला जाता है दर्शक की भीड़ स्टेडियम में उमड़ पड़ती है।

क्रिकेट के नियम:-

मुख्यत: यह खेल 22 गज की दूरी में तय पिच पर खेला जाता है। पिच के दोनों तरफ तीन-तीन विकेट गड़े होते हैं। गेंदबाज और गेंदबाजी समूह का मुख्य लक्ष्य विकेट लेने पर होता है और बल्लेबाज अपनी विकेट बचाने और रन बनाने पर ध्यान देते हैं। गेंदबाजी समूह कई तरह से जैसे कि स्टंप आउट, कैच आउट और रन आउट करके विकेट ले सकते हैं । और दूसरी ओर बल्लेबाजी पक्ष अपने बल्ले से मारकर चौकी और छक्के निकालते हैं तथा दौड़ कर भी रन बनाते हैं। बल्लेबाजी पक्ष ज्यादा से ज्यादा रन बनाने की कोशिश करता है तथा गेंदबाजी पक्ष उससे रोकने की कोशिश में लगा रहता है।

जरूर पढ़ें:  एपीजे अब्दुल कलाम (मिसाइल मैन) पर निबंध लेखन

इस खेल में जब तक बल्लेबाजी पक्षी ‘ऑल आउट’ ना हो जाए तब तक खेल चलता रहता है। पूरे खेल को दो पारियों में खेला जाता है पहली पारी में वह टीम खेलती है जिसने टॉस जीता होता है। टॉस दोनों टीमों के कप्तान के बीच होता है टॉस जीतने के बाद कप्तान के द्वारा ही यह निर्णय लिया जाता है कि वह पहले बल्लेबाजी करेंगे या गेंदबाजी। पहली पारी में जिस भी टीम ने गेंदबाजी की होती है वह दूसरी पारी में बल्लेबाजी करती है और पहली पारी में बल्लेबाजी की टीम दूसरी पारी में गेंदबाजी करते हैं।

खेल के दौरान चौके, छक्के, आउट और कई सारी गतिविधियों पर निर्णय लेने का काम अंपायर का होता है। खेल के दौरान बल्लेबाजी पक्ष से दो बल्लेबाज पेज पर मौजूद रहते हैं उनमें से एक स्ट्राइकर होता है और दूसरा नॉन स्ट्राइकर और गेंदबाजी पक्ष से एक गेंदबाज एक विकेट कीपर और बाकी नो क्षेत्र-रक्षक मौजूद रहते हैं। इस खेल में इस्तेमाल होने वाला बल्ला लकड़ी का होता है और गेंद चमड़े से बना होता है। खेल के दौरान मैदान में दो अंपायर खड़े रहते हैं एक गेंदबाज की तरफ और दूसरा “स्क्वेयर लेग” पर होता है। अंपायरों के अतिरिक्त एक तीसरा अंपायर भी होता है जो आवश्यकता पड़ने पर वीडियो के द्वारा देखकर निर्णय लेता है।

जरूर पढ़ें:  तंबाकू सेवन का दुष्परिणाम और नियंत्रण पर हिंदी निबंध

गेंदबाज ओवर के मुताबिक गेंदबाजी करते हैं एक ओवर छे: गेंदों का समूह होता है। मैच के दौरान कोई भी गेंदबाज लगातार दो ओवर नहीं करा सकता है। गेंदबाज का मुख्य काम लिया होता है कि वह क्षेत्र रक्षकों की मदद से विकेट चटकाए । यदि किसी गेंद पर बल्लेबाज रन बनाने की कोशिश नहीं करता है तो गेंद डेड मानी जाती है और गेंदबाज को पुण: उस गेंद को डालनी पड़ती है।

cricket par hindi essay

पिच के दोनों तरफ खड़ी विकेट में तीन-तीन लकड़ियां होती है और उनके ऊपर दो दो गुल्ली रखी रहती हैं। एक टीम में चार से पांच अच्छे बल्लेबाज होते हैं तथा चार से पांच अच्छे गेंदबाज को रखा जाता है। और इनके अतिरिक्त एक विशेषज्ञ विकेटकीपर भी मौजूद रहता है।
प्रत्येक टीम को नियंत्रित करने के लिए उनमें एक कप्तान भी होता है। यदि खेल के दौरान कोई भी खिलाड़ी घायल होता है तो उसके जगह एक प्रतिस्थापित खिलाड़ी को मैदान में लाया जाता है। प्रतिस्थापित खिलाड़ी गेंदबाजी कप्तानी और विकेट कीपिंग नहीं कर सकता।

बल्लेबाज पक्ष से बल्लेबाज बल्लेबाजी क्रम (batting order) से बल्लेबाजी करने आते हैं जो कि कप्तान द्वारा निर्धारित किया हुआ रहता है। मैच का परिणाम दोनों पक्षों द्वारा बनाए गए स्कोर पर निर्धारित होता है , अगर दोनों ही पक्ष बराबर स्कोर बनाते हैं तो मैच को टाई माना जाता है।

क्रिकेट का इतिहास:-

क्रिकेट 16 वीं शताब्दी से ही खेला जा रहा है। वहीं इससे 18 वीं शताब्दी से अंतरराष्ट्रीय रूप में खेला जाने लगा। 1887 के समय से यह खेल मूल रूप से इंग्लैंड में शुरू हुआ । क्रिकेट खेल में भारत ने दो बार वर्ल्ड कप जीता है। 19वीं सदी के दौरान क्रिकेट स्कोर काउंटी क्लबों के अंतर्गत खेला जाने लगा। उसी दौरान 6 या 8 गेंदों का ओवर हुआ करता था। 2000 के नए नियमों के अनुसार 1 ओवर 6 गेंदों का होने लगा। बीसवीं सदी के दौरान टेस्ट मैच सबसे अधिक लोकप्रिय रहा।

जरूर पढ़ें:  समय का मूल्य पर निबंध | Essay on Value of Time in Hindi

आज 21वीं सदी में क्रिकेट सभी खेलों में सबसे अधिक लोकप्रिय खेल है।आईसीसी 2001 में “टेस्ट चैम्पियनशिप ” और 2002 में “एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय चैम्पियनशिप” की शुरुआत की। 2004 में प्रथम श्रेणी क्रिकेट में पहली बार 12 राष्ट्रों की टीम को खिलाए गए। क्रिकेट में सबसे नया प्रकार “ट्वेन्टी ट्वेन्टी” है, जो कि 2008 में प्रारम्भ हुआ है। भारतीय क्रिकेट इतिहास में खिलाड़ियों में कपिल देव , सचिन तेंदुलकर , एम एस धोनी और विराट कोहली सबसे लोकप्रिय रहे हैं।

भारतीय क्रिकेट के प्रसिद्ध खिलाड़ी:-

सुनील गावस्कर, सचिन, कपिल देव, युवराज सिंह, महेंद्र सिंह धोनी, विराट कोहली, वीरेंद्र सहवाग,वी वी एस लक्ष्मण,अनिल कुंबले, गौतम गंभीर, हरभजन सिंह,आशीष नेहरा, इरफान पठान, सौरव गांगुली, राहुल द्रविड़ , सुरेश रैना इत्यादि भारत के प्रसिद्ध क्रिकेट खिलाड़ी है।

निष्कर्ष:-

क्रिकेट खेल बहुत ही रोमांचक खेल है, इस खेल को बच्चे और बड़े दोनों ही खेलना पसंद करते हैं। क्रिकेट खेलने से स्वास्थ्य भी सही रहता है , इसे सभी वर्गों के लोग को खेलना चाहिए। भारत देश में सचिन तेंदुलकर एम एस धोनी जैसे महान खिलाड़ियों ने भारत ने क्रिकेट को एक नए आयाम पर ले आया है। क्रिकेट ही नहीं बल्कि हमें और भी खेलों को खेलना चाहिए ताकि हमारा स्वास्थ्य सही रहे ।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here