कोरोना वायरस पर कविता हिंदी में

0
146

जाने किस पहर कोरोना आया
कहते हैं वुहान से शुरु हुआ
अब‌ पूरी दुनिया मे जाता है‌ पाया
बाहर अब सब बंद हुआ है
जिसको लाॅकडाउन का नाम दिया है
पढ़ना लिखना आॅनलाइन किया है
‘वर्क फरॉम होम’ से काम चला है
बाहर सब बंद है मगर
काम सब चल रहा है
फिर इससे नुक्सान क्या हुआ है?
फसा वही है जो हमेशा फसता रहा है
झूठे वादों के ढकोसलों‌ से लड़ता‌ रहा है
शोर ये है कि महामारी आई है
ग़रीबों की भूख ने जान खाई है
महामारी भी सियासी मुद्दा हो गया
असल बात न कोई जानता न पूछता
तस्वीर है जो सामने
आधी है या तसवीर है भी नही
पड़ोसी देश‌‌ से चल रही बराबरी
आधे मान बैठे कि सब ठीक है चल रहा
मगर किसी को क्या पता
असल तस्वीर है लापता।

— शीतल महाजन।

जरूर पढ़ें:  "इधर भी गधे हैं, उधर भी गधे हैं" ओम प्रकाश आदित्य जी की कविता

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here